Jain Teerth Darshan, Jain Darshan, Jain Yatra, Jain Pilgrims, Jain Tirthankaras
Jain Sadhu, Sadhvi, Jain Samaj, Jain Tirth Places, Namokar Mantra
Aahu Dhar Tirth
 
Adinda Tirth
 
Ankaleshwar Tirth
 
Ashta Kasar Tirth
 
Bada Gaon Tirth
 
Bahlna
 
Kushal Garh Tirth
 
Bhelupur Tirth
 
Bichiwada Tirth
 
Bijapur Tirth
 
Bijolia Tirth
 
ChulGiri Khaniyaji Tirth
 
DadaWadi Tirth
 
Elora Tirth
 
Humcha Padmavati Tirth
 
Jatwada Tirth
 
Kachner Tirth
 
Kanak Giri Tirth
 
Karguvan Tirth
 
KunthuGiri Tirth
 
Mahua Tirth
 
Mandsaour Tirth
 
Mangi Tungi Tirth
 
MoraJhadi Tirth
 
NemGiri Tirth
 
Nimola Tirth
 
Poondi Tirth
 
SawarGaon Tirth
 
Shirpur Tirth
 
Padampura Padamprabhuji
 
Paithan Tirth
 
Shirad Shahapur Tirth
 
Bhadaini Varanasi Tirth
 
Sammed Shikharji
 
Girnarji
 
Mangi Tungi
 
Pushpgiri
 
Muktagiri
 
Adishwargiri
 
Mahavir Swami's Message
 
THE JAINA LAW
 
Meri Bhavna
 
Aharji Siddha Kshetra
 
Bajrang Garh Atishaya Kshetra
 
Khajuraho Atishaya Kshetra
 
Ramtek Atishaya Kshetra
 
Seronji Atishaya Kshetra
 
Sihoniyaji Atishaya Kshetra
 
Padampura / Padamprabhu ji
 
Paithan Jain Tirth, Aurangabad
 
Shirad Shahapur Jain Tirth
 
Jain Siddhakshetra Gajpantha
 
Jain Atishay Kshetra Bhatkuli
 Muktagiri - Medagiri Tirth

मुक्तागिरी शेत्र इसलिए कहा जाता हैं क्योंकि यहाँ पर मुनीश्वरो ने तथा महान साधको ने विशेस आत्म साधना की और सर्व कर्म बन्धनों से मुक्त होकर मुक्ति प्राप्त की साडे तिन करोड़ मुनिश्व्वारो की यह मोक्ष स्थली हैं. तीर्थंकर भ. शीतलनाथ का समोशार्ण यहाँ आने से यह तीर्थ शेत्र भी है. पवित्र आत्माओ के विचार तथा आभा मंडल द्वारा यह शटल पवित्र तरोंगों से भरा हुआ हैं.

यह शेत्र भारत के मध्य में स्थित हैं. यह महाराष्ट्र तथा मध्यप्रदेश के सीमा पर स्थित हैं. यह बेतुल जिले में आता हैं. यह क्षेत्र अमरावती से ६५ किलोमीटर आकोट से ७५ किलोमीटर परतवाडा से १४ किलोमीटर बेतुल से १०० किलोमीटर दुरी पर हैं.

 

Muktagiri Tirth Sitauted in Betul district, Madhyapradesh, Tirth 65 km. away from Amravati, and From Aakot Approx 75 k.m., From Paratwada - (Achalpur) 14 km.
 

Chikhaldara Hill Just 65 km. away from Muktagiri Tirth.

 
Near Tirth from Muktagiri
 
Bhatkuli (80 km.)
On the way to paratwada, Bhatkuli Tirth - प्राचीन तीर्थ श्री आदिनाथ भगवन की ३००० वर्ष अतिशयी मनोज्ञ प्रतिमा हैं
 
Karanja (50 km.) / Laad Tirth
On the way to Bhatkuli To Karanja Via Murtijapur : यहाँ प्रतिमाये दर्शन के लिए शाम ६ बजे से पहले उपलब्द रहेंगी
 
Shirpur (Antriksha Parshwanath) (100 km.)
Way from Karanja To Shirpur Via Malegaon : यहाँ श्री पार्श्वनाथ भगवन की प्रतिमा हैं
 
 
Nemgiri (Jintoor) 120 Km
Way from Nemgiri Via Risod / Via Hingoli : यहाँ श्री पार्श्वनाथ भगवान की अतिशय विशाल (३ टन ) की प्रतिमा विराजमान हैं
 
एक हजार वर्ष पूर्व मंदिर क्रमांक १० के नजदीक ध्यानमग्न मुनिवर के सामने एक मैंडा पहाड़ की छोटी पर से गिरा. मुनिराज ने उसके कान में नामोकर मंत्र का स्मरण किया वह मैंडा पहाड़ म्रत्यु के बाद स्वर्ग में देवगति प्राप्त होते ही मुनि महाराज के दर्शन को आया उसी समय से इसे मेंदागिरी भी कहा जाता हैं
Distance from Different Tirth
 
Nagpur - Amravati - Partawada (Achalpur) - Muktagiri = 230 km.
Bhopal - Raysen - Betool - Parawada - Muktagiri = 240 Km.
Akola - Amravati - Paratwada - (Achalpur) - Muktagiri = 160 km.
 
 
website desiging company india